IndiHealth http://www.indihealth.in Best Hindi Health Blog Fri, 27 Jul 2018 11:55:44 +0000 en hourly 1 https://wordpress.org/?v=4.9.4 http://www.indihealth.in/wp-content/uploads/2016/01/cropped-indihealth-32x32.png IndiHealth http://www.indihealth.in 32 32 पेसिव स्मोकिंग भी क्यों हो सकती है खतरनाक जानिए ? http://www.indihealth.in/information/passive-smoking-hindi/ Fri, 27 Jul 2018 11:55:44 +0000 http://www.indihealth.in/?p=746 Smoking सेहत के लिए बुरा यह जगजाहिर बात है और आप में से बहुत से लोग इसे करते भी नहीं होंगे लेकिन फिर अगर मैं आपसे कहूँ कि जरुरी नहीं है कि अगर आप स्मोकिंग नहीं करते है तो इसे दुष्प्रभावों से आप बचे ही रहेंगे क्योंकि इसका दूसरा एक पहलू भी है वो है ... [Read more...]

The post पेसिव स्मोकिंग भी क्यों हो सकती है खतरनाक जानिए ? appeared first on IndiHealth.

]]>
Smoking सेहत के लिए बुरा यह जगजाहिर बात है और आप में से बहुत से लोग इसे करते भी नहीं होंगे लेकिन फिर अगर मैं आपसे कहूँ कि जरुरी नहीं है कि अगर आप स्मोकिंग नहीं करते है तो इसे दुष्प्रभावों से आप बचे ही रहेंगे क्योंकि इसका दूसरा एक पहलू भी है वो है Passive smoking ,जो कि आपके लिए उतना ही खतरनाक है जितना ही Active smoking | एक्टिव स्मोकर उस व्यक्ति को कहते है जो खुद धुम्रपान कर रहा है तो चलिए इसी बारे में कुछ और थोड़ी बात करते है –

Passive smoking in hindi

विकसित देशों और लगभग सभी देशों में Active Smoking को लेकर अलग अलग कानून है और सामान्यत: किसी भी सार्वजानिक जगह पर बीडी , सिगरेट या अन्य तरीके से धुम्रपान करना वर्जित होता है लेकिन इस सम्बन्ध में कोई कड़े कानून नहीं है और इसके पीछे भी एक वजह है | वजह ये है कि कोई भी व्यक्ति जो खुद smoke कर रहा है वो न केवल खुद को तो सेहत और धन की दृष्टि से नुकसान पहुंचा ही रहा है बल्कि इसके साथ ही वह अपने आस पास मौजूद दूसरे लोगो की भी हानि कर रहा है क्योंकि उसके बीडी या सिगरेट से निकला हुआ धुआं दूसरे लोगो के शरीर में भी साँस के साथ जा रहा है जिसकी वजह से उन्हें भी ठीक वही smoking side effect झेलने पड़ते है जो सिगरेट पीने वाले को होते है | इसी घटना को Passive smoking कहते है |

परिभाषा के तौर पर इसे ऐसे कहेंगे कि ” जब कोई व्यक्ति सिगरेट पी रहा है तो उस घटना को एक्टिव स्मोकिंग कहेंगे और उस व्यक्ति को एक्टिव स्मोकर और उस धुएँ को उसके पास खड़ा व्यक्ति अनचाहे ही अपने साँस के जरिये उसके द्वारा छोड़े गये धुएं को ग्रहण कर रहा है तो उसे पैसिव स्मोकर और घटना को पैसिव स्मोकिंग कहेंगे |”

Passive smoking in hindi

इसे सेकंड हैण्ड स्मोकिंग (SHS) या एनवायर्नमेंटल टोबेको स्मोक (ETS) भी कहा जाता है | इसके भी ठीक उतने ही गंभीर दुष्प्रभावों को देखते हुए ही दुनिया भर की सरकारों ने होटल , सार्वजानिक जगहों या ऐसी जगहों जन्हा लोगो की भीड़ होती हो , धुम्रपान को रोकने के लिए अधिनियम बनाये है | भारत में भी आजकल इस बारे में कानून है जिसे धूम्रपान निषेध अधिनियम 2003 के नाम से जाना जाता है और इस कानून के तहत –

  • किसी भी सार्वजनिक जगह फिर चाहे वह कोई सरकारी भवन या कार्यालय हो या फिर कोई शैक्षणिक संस्था या कोई स्कूल या कॉलेज और रेल स्टेशन या बस अड्डे | जंहा भी आम लोग आ जा सकते है उन जगहों पर स्मोकिंग करना वर्जित होगा और इसकी अवहेलना किये जाने पर रूपये 200 का जुर्माने का प्रावधान है |
  • किसी भी 18 साल के कम उम्र के बच्चे को तम्बाकू उत्पाद बेचने के कृत्य को गंभीर अपराध की श्रेणी में रखा गया है जिसके तहत सात साल की सजा के साथ साथ एक लाख रूपये तक का जुर्माना तय किया जा सकता है |
  • इसके अलावा इस अधिनियम के बारे में पूरी जानकारी आप  धूम्रपान निषेध अधिनियम 2003 पर क्लिक करके देख सकते है जिसमे कानून के साथ साथ आप कन्हा शिकायत कर सकते है इस बारे में विस्तार से जानकारी दी गयी है |

सेकंड हैण्ड स्मोकिंग (SHS) यानि passive smoking से होने वाले नुकसान निम्न है :-

  • सामान्य धूम्रपान करने से जो नुकसान किसी व्यक्ति को होते है ठीक उसी तरह से जो जो उस धुएं को ग्रहण कर रहा है उसे भी वही side effect होने का खतरा होता है जिसमे कैंसर , ब्रैस्ट कैंसर , फेफड़ों का कैंसर और यकृत और ब्लेडर का कैंसर होने का खतरा शामिल है |
  • इसके साथ ही हार्ट से जुडी समस्याये होने का खतरा भी बढ़ जाता है और इसके अलावा अस्थमा और कुछ दिमागी समस्याएं जैसी कि डिमेंशिया , पहचानने की क्षमता में कमी , दिमागी कार्यकुशलता में कमी जैसी गंभीर बीमारियों के होने का खतरा बढ़ जाता है |

अब आप समझ सकते है कि सिगरेट पीने वाले के पास खड़े होना उतना ही खतरनाक है जितना कि सिगरेट पीना तो भविष्य में इस बात का ध्यान रखें और passive smoking के नुकसान से बचे | इस बारे में अधिक जानकारी एक लिए आप हमे ईमेल कर सकते है |

The post पेसिव स्मोकिंग भी क्यों हो सकती है खतरनाक जानिए ? appeared first on IndiHealth.

]]>
अपने दिमागी क्षमता को कैसे बढ़ाएं जाने विस्तार से ? http://www.indihealth.in/tips/brain-power-improve-hindi/ Wed, 25 Jul 2018 18:02:07 +0000 http://www.indihealth.in/?p=741 Brain हमारे शरीर के सबसे जरुरी और सबसे जटिल अंग है जो हमारे शरीर की तमाम एच्छिक और अनैच्छिक क्रियाओं को सम्पादित करता है | यह न केवल जागते समय हमारे सभी आदेशों का पालन करता है जैसे कि बोलना , हाथों का हिलाना और शरीर को एक से दूसरी जगह ले जाने के लिए ... [Read more...]

The post अपने दिमागी क्षमता को कैसे बढ़ाएं जाने विस्तार से ? appeared first on IndiHealth.

]]>
Brain हमारे शरीर के सबसे जरुरी और सबसे जटिल अंग है जो हमारे शरीर की तमाम एच्छिक और अनैच्छिक क्रियाओं को सम्पादित करता है | यह न केवल जागते समय हमारे सभी आदेशों का पालन करता है जैसे कि बोलना , हाथों का हिलाना और शरीर को एक से दूसरी जगह ले जाने के लिए नियंत्रण और सभी जरुरी कार्य यह करता है | यह बेहद पेचीदा अंग है जिसे समझने के लिए वैज्ञानिक सालों से लगे हुए है और निरंतर इस दिशा में शोध कार्य हो रहे है | इन्ही कई सारे कामों में से brain का एक काम है चीजे याद रखना और सामान्यत: ये यह काम बड़ी बखूबी करता है लेकिन फिर भी आजकल की भागदौड़ भरी जिन्दगी और खाने में कोताही से हो सकता है आपको लगे कि आपके याद रखने की क्षमता में कमी हो रही है तो चलिए इसी बारे में आज बात करते है आज की हमारी इस पोस्ट brain power improve hindi में –

brain power improve hindi

हमारे शरीर के बारे में हम एक साधारण सच हमेशा से जानते है कि यह समय के साथ बूढा होता चला जाता है क्योंकि हमारे शरीर के सभी अंगो के नवीनीकरण की एक सीमा होती है और इसे ही एजिंग प्रोसेस यानि उम्र बढ़ने की प्रक्रिया कहते है | ठीक इसी तरह हमारे दिमाग के साथ भी यही होता है | समय के साथ साथ brain एजिंग प्रोसेस का शिकार होता है और इसकी काम करने की क्षमता में कमी होती चली जाती है लेकिन जिस तरह हम एक healthy lifestyle को अपनाकर और exercise को अपनाकर और नियमित morning walk जैसी चीजो को अपनी जिन्दगी में शामिल कर अपनी उम्र बढ़ने की दर को कम कर सकते है यानि अधिक उम्र तक भी शारीरिक तौर पर चीजे करने में सक्षम रह सकते है उसी तरह जानकर यह मानते है कि अगर brain को भी बढती उम्र का शिकार होने से बचाना है या बढती उम्र में कम होती brain power improve करना है तो कुछ साधारण चीजों को जीवन में अपनाकर आप यह कर सकते है जो निम्न है –

brain power improve in hindi

अगर आप brain power improve करना चाहते है तो सबसे पहले आपको अपने लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव करने होंगे जिसमे शामिल है , स्मोकिंग नहीं करना ,अपने वजन को नियमित रखना ,अधिक से अधिक सब्जियां और फलों को अपनी डाइट में शामिल करना और अपनी दैनिक जीवन क्रियाओं में व्यायाम और morning walk को शामिल करना और सबसे महत्वपूर्ण है अल्कोहल का सेवन या तो एकदम कम करना या फिर बहुत ही सीमित मात्रा में करना | इन सब आदतों को अपनी जिन्दगी में शामिल करने के पीछे एक शोध है जो साल 2013 के दौरान हुआ जिसमे करीबन 2000 से अधिक लोगो पर हुए एक रिसर्च के मुताबिक जिन युवाओं में ये आदतें थी उनमे बाकि लोगो के मुकाबले दिमागी विकार डिमेंशिया के या किसी दिमागी विकार के होने की सम्भावना 60 प्रतिशत कम पायी गयी |

इसके बाद जो सबसे जरुरी चीज आती है आपकी brain power improve करने के लिए  वो है आपकी डाइट और दिमागी तौर पर चुस्त बने रहने के लिए आपको brain healthy diet भी लेना जरुरी है जिसमे कोलेस्ट्रोल की मात्रा कम तो हो ही इसके साथ ही कम वसायुक्त भोजन भी जरुरी है | अगर विशेष तौर पर brain food के नजरिये से बात करें तो आप बादाम को अपनी डाइट में शामिल कर सकते है जो न केवल कोलेस्ट्रोल को कम करने में मदद करते है बल्कि इसके साथ ही आपके brain को जवान बनाये रखने के लिए जिम्मेदार जरुरी पोषक तत्व बादाम में होते है | इसके लिए आप हमारी एक पोस्ट badam benefits for brain पढ़ सकते है |

इसके साथ ही एक और जरुरी चीज है जिसे आजकल के लोग लापरवाही से किनारे कर रहे है वो है एक आलसी दिनचर्या , क्योंकि जानकर कहते है वो लोग जो घंटो तक टीवी के आगे बैठे रहते है या किसी एक ही तरह के काम को करते रहने में अपना दिन निकाल देते है उन लोगो की brain power धीरे धीरे कमजोर होती जाती है क्योंकि दिमाग को चुस्त रहने के लिए नई नई चीजे सीखते रहनी होती है और जैसे जैसे आप इसका प्रयोग करना कम करते है वैसे वैसे यह एजिंग प्रोसेस का शिकार हो जाता है जिसके परिणाम उम्र के बाद के समय में डीमेंशिया जैसी बीमारी के तौर पर सामने आते है | इसलिए जरुरी है कि अपने काम के साथ साथ अपने किसी भी तरह के शौक को करने के लिए समय निकालें और कुछ नया सीखते रहे | इस से आपको दो फायदे होंगे , सबसे पहला तो आप कुछ न कुछ नया सीख जाएँगे और दूसरा आपका दिमाग आपका साथ आपकी बढती उम्र में भी देगा |

इसके अलावा कुछ brain power improve करने के लिए brain exercises है जो आप घर पर भी कर सकते है | हालाँकि इन्टरनेट पर बहुत से games और applications है जो इसमें आपकी मदद कर सकते है | लेकिन जानकार यह मानते है कि किसी भी एप्लीकेशन या इन्टरनेट पर मौजूद किसी भी सॉफ्टवेर से बेहतर होता है कि आप अपने brain को असल जिन्दगी के चैलेंज दें | उदाहरण के तौर पर यह “ बाएं हाथ से लिखना हो सकता है “ या फिर “ दूसरे हाथ से ब्रश करना हो सकता है | “ इसके अलावा आप “ उल्टा चलने का अभ्यास भी कर सकते है “ या फिर “ मुश्किल जगह पर संतुलन बनाने का प्रयास “ आदि चीजे आपके दिमाग को तेज करने में आपकी मदद करती है |

नीचे कुछ brain exercises है जिन्हें करके भी आप अपने दिमाग को तेज बनाये रखने में खुद की मदद कर सकते है –

  • अपनी याददाश्त को परखें – यह सबसे पारम्परिक तरीका है जो आप अपना सकते है | इसके लिए आपको बस किसी भी चीज की एक लिस्ट बनानी है और फिर थोड़ी देर बाद उस लिस्ट को याद करके देखना है कि आप कितनी चीजे याद कर पाते है और समय के साथ साथ आप चाहें तो अपने लिए इसे और मुश्किल भरा बना सकते है |
  • संगीत सीखें – म्यूजिक करीबन हर किसी को पसंद होता है ऐसे में आप चाहें तो संगीत सीख सकते है या फिर अगर आपकी संगीत में रूचि नहीं है तो कोई संगीत यंत्र जैसे कि गिटार , बांसुरी या कोई पारम्परिक यंत्र भी सीख सकते है |
  • कोई नई भाषा सीखें – यह भी सबसे बेहतरीन brain power improve करने की exercise है जो आप कर सकते है | कोई भी नई भाषा सीखने में दिमाग को अच्छी खासी मेहनत लगती है और यह आपके दिमाग की तार्किक क्षमता में भी इजाफा करती है तथा दिमाग के काम करने की कार्यक्षमता को बढ़ाते हुए आपके दिमाग को बेहतर करती है |
  • खाना बनाना सीख सकते है – कुकिंग क्लासेज का अपना एक अलग महत्व है | अगर आप खाना बनाना नहीं जानते है तो ऐसे में खाना बनाना सीख सकते है और खाना बनाने में आपकी सारी इन्द्रियां काम करती है जैसे कि सूंघना , छूना ,देखना और चखना जो कि आपके दिमाग के लिए नये अनुभव की तरह होता है |
  • आने जाने के रास्ते को दिमाग में बनाये – यह exercise आपके brain power को increase करने में बहुत फायदे वाली है कि जब आप किसी नई जगह जाते है तो वंहा पहुँच कर या वापिस आकर उस पूरे रास्ते के अनुभव को अपने दिमाग में फिर से याद करें और उसे ताजा करने की कोशिश करें | अपने किसी भी नये अनुभव या यात्रा को इसी तरह याद करने की कोशिश करें |
  • खाना खाते समय ध्यान रखें – खाना खाते समय खाने के प्रति जागरूक रहें और स्वाद को महसूस करने की कोशिश करते हुए यह करें कि खाने में क्या क्या मसाले हो सकते है पता लगाने की कोशिश करें |
  • किसी नई शारीरिक गतिविधि को सीखें – किसी भी नई चीज को सीखना आपके दिमाग के लिए न केवल चलेंजिग होता है बल्कि यही वो है जो आपके brain को सबसे अधिक फायदा देता है | इसलिए अगर आपकी रूचि खेल में अधिक है तो आप किसी नये तरीके के खेल या शारीरिक गतिविधि को भी सीख सकते है |

इन सब चीजो का ध्यान रखते हुए आप अपने brain को बूढ़े होने से बचा सकते है और इसके साथ ही आपके दिमाग की कम करने की क्षमता और याददाश्त  को बढ़ा सकते है और इसे लम्बे समय तक कायम रख सकते है |

कुछ और ज्ञानवर्धक आर्टिकल पढ़ें –

The post अपने दिमागी क्षमता को कैसे बढ़ाएं जाने विस्तार से ? appeared first on IndiHealth.

]]>
बादाम खाने से क्यों तेज होता है आपका दिमाग जानिए ? http://www.indihealth.in/information/badam-benefits-brain-hindi/ Wed, 25 Jul 2018 09:52:31 +0000 http://www.indihealth.in/?p=737 बादाम एक कमाल का ड्राई फ्रूट है जो बहुत से पोषक तत्वों और सेहत के लिए बढ़िया वसा का स्त्रोत है | इन्हें दुनिया के हर देश में तरह तरह से प्रयोग किया जाता है और सबसे खास बात ये है कि इन्हें ‘ brain food ‘ भी कहा जाता है | हालाँकि यह भी ... [Read more...]

The post बादाम खाने से क्यों तेज होता है आपका दिमाग जानिए ? appeared first on IndiHealth.

]]>
बादाम एक कमाल का ड्राई फ्रूट है जो बहुत से पोषक तत्वों और सेहत के लिए बढ़िया वसा का स्त्रोत है | इन्हें दुनिया के हर देश में तरह तरह से प्रयोग किया जाता है और सबसे खास बात ये है कि इन्हें ‘ brain food ‘ भी कहा जाता है | हालाँकि यह भी बात सही है कि इसे दुनिया के सबसे महंगे स्नैक्स भी कहा जा सकता है | तो चलिए इसी बारे में थोड़ी और बात करते है और जानते है कि badam benefits for brain कौनसे है ?

badam benefits for brain in hindi

Badam को सदियों से दिमागी शक्ति बढाने के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा है और आप घर में किसी भी बुजुर्ग व्यक्ति से पूछें तो वह इसके दिमागी फायदे गिना सकता है और इसे रात को भिगोकर सुबह सुबह खाने का पारम्परिक तरीका भी सदियों से प्रचलन में है | badam यानि के almond में 26 प्रतिशत तक कार्बोहायड्रेट होता है और 14 प्रतिशत तक फाइबर और 21 प्रतिशत तक प्रोटीन होता है और इसके अलावा इसमें सभी तरह के जरुरी एमिनोएसिड्स और कैल्शियम और मैग्नीशियम और पोटैशियम , विटामिन ई , विटामिन बी और अच्छी वाली वसा भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते है |

badam benefits brain hindi

Badam में पाए जाने वाले विटामिन ई के बारे में सबसे खास बात ये है कि यह विटामिन ई शरीर में सबसे अधिक तेजी से अवशोषित हो जाने वाला विटामिन ई का प्रकार है जो कि आपके शरीर की मांशपेशियों के लिए भी अतिआवश्यक है क्योंकि यह उन्हें फ्री रेडिकल्स से होने वाले दुष्प्रभावों से बचाता है | जितना आपके शरीर में free radicals का प्रभाव कम होगा उतनी ही तेजी से आपकी मांसपेशियां फिर से ठीक हो जाती है | इसके अलावा अगर विटामिन ई का आपके brain पर पड़ने वाले असर पर बात करें तो यह आपकी तार्किक क्षमता को बढाने के साथ साथ आपकी याद रखने की क्षमता को तेज करता है तथा आपकी सतर्कता और पहचानने की क्षमता को बध्नाए में सहायक होता है | इसके साथ ही विटामिन ई आपकी दिमागी कोशिकाओं की एजिंग प्रोसेस को स्लो कर देता है |

badam benefits for brain के बारे में अगर थोडा details में बात करें तो होता यह कि badam के अंदर 20-22 प्रतिशत तक पाए जाने वाले प्रोटीन का हमे यह लाभ होता है कि यह brain cells को रिपेयर करने के साथ साथ उनका बेहतर रखरखाव करता है जिस से दिमागी सेहत बढ़िया बनी रहती है | इसके अलावा जिंक भी विटामिन ई की तरह आपके शरीर में फ्री रेडिकल्स को आपके दिमागी कोशिअकाओं को प्रभावित करने से रोकता है | इसमें पाया जाने वाला विटामिन बी6 भी आपके दिमाग को स्वस्थ बनाये रखने में योगदान देता है |

कुछ स्टडीज में यह पाया गया है कि almond में पाए जाने वाला Riboflavin (B2) बढती उम्र के प्रभाव को दिमाग पर पड़ने से रोकता है और बड़ी उम्र में भी आपका मस्तिष्क काम करने वाली हालत में होता है | इसके साथ ही यह भी जान लेना जरुरी है कि न केवल brain health बल्कि इसके साथ साथ बादाम का सेवन आपकी पूरी ओवरआल स्वास्थ्य के भी बढ़िया होता है क्योंकि यह बुरे कोलेस्ट्रोल को कम करने से लेकर आपकी हड्डियों के विकास और बालों के सेहत को बनाए रखने तक में आपका सहयोग करता है |

तो ये है badam benefits for brain in hindi और इस बारे में अधिक जानकारी के लिये हमे ईमेल कर सकते है और badam health benefits details वाली पोस्ट पढ़ कर आप इस बारे में और जान सकते है |

The post बादाम खाने से क्यों तेज होता है आपका दिमाग जानिए ? appeared first on IndiHealth.

]]>
दिमागी दौरा क्यों पड़ता है जानिए विस्तार से http://www.indihealth.in/diseases/brain-attack-hindi/ Tue, 08 Aug 2017 23:15:52 +0000 http://www.indihealth.in/?p=671 Brain के बारे में हमे basic information पिछली पोस्ट में पढ़ी थी और इस पोस्ट में हम एक समस्या के बारे में बात करने वाले है जिसे brain attack या brain stroke के नाम से जानते है यह एक घातक समस्या है क्योंकि हमे होने वाली बहुत सी बीमारियाँ ऐसी होती है जो हमे अलग ... [Read more...]

The post दिमागी दौरा क्यों पड़ता है जानिए विस्तार से appeared first on IndiHealth.

]]>
Brain के बारे में हमे basic information पिछली पोस्ट में पढ़ी थी और इस पोस्ट में हम एक समस्या के बारे में बात करने वाले है जिसे brain attack या brain stroke के नाम से जानते है यह एक घातक समस्या है क्योंकि हमे होने वाली बहुत सी बीमारियाँ ऐसी होती है जो हमे अलग अलग तरीके से प्रभावित करती है कोई कम कोई ज्यादा लेकिन दिमाग और दिल से जुडी बीमारियाँ भयावह होती है लेकिन अगर हम इनके बारे में ज्यादा जानते हों तो हमे अपनी lifstyle में थोड़े बदलाव करके इनसे बच सकते है तो चलिए इसी बारे में थोड़ी और बात करते है –

brain attack hindi (brain stroke)

देखा जाए तो आज की जिस तरह की जीवनशैली है इसमें brain attack किसी को भी हो सकता है और  इसमें होता ये है कि दिमाग में होने वाली खून की सप्लाई या तो बहुत कम हो जाती है या किसी तरह का अवरोध उसमे आ जाता है जिसकी वजह से पीड़ित व्यक्ति का चेहरा सूखने लगता है और उसे बोलने में भी परेशानी होने लगती है \ शरीर की मांशपेशियों पर उसका कण्ट्रोल बहुत कम हो जाता है | भारत में एक रिपोर्ट के अनुसार 10 लाख से ज्यादा केसेस हर साल brain attack के सामने आते है अब यह कितने सही है कितने नहीं यह तो मेडिकल डिपार्टमेंट जाने पर अगर वाकई में इतने केस आते है तो यह वाकई चिंता की बात है |brain attack in hindi

ब्रेन स्ट्रोक होने के दो मुख्य कारण हो सकते है जिनमे से एक ये तब होता है जब हमारी कोई भी artery यानि के धमनी ब्लाक हो जाती है जिसकी वजह से रक्त के प्रवाह में बाधा होती है और दिमाग को अगर खून की सप्लाई में समस्या होगी तो उसके साइड इफ़ेक्ट के तौर पर brain attack सामने आता है , और इस तरह के stroke को ischemic stroke कहते है | दूसरे कारण के तौर पर अगर कोई रक्त वाहिका लीक होती है या फट जाती है तो भी यह समस्या देखने को मिलती है और इसे हेम्राहैजिक स्ट्रोक के तौर पर जाना जाता है |

Brain stroke के बाद चलने में परेशानी होने के साथ साथ कुछ और समस्याएँ है जो होती है वो है –

  • बोलने में परेशानी होने के साथ साथ समझने की शक्ति भी कमजोर हो जाती है |
  • मांशपेशियों पर चूँकि कण्ट्रोल कम हो जाता है जिसकी वजह से उनका आपस में तालमेल ठीक से पीड़ित व्यक्ति कर नहीं पाता है और उसे इसमें बहुत परेशानी महसूस होती है |
  • पूरी बॉडी का संतुलन खराब हो सकता है , दिमाग सुन्न सा महसूस होने लगता है जैसे कि वो है ही नहीं |
  • देखने में भी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है |
  • सम्पर्क महसूस करने में भी परेशानी का सामना करना पड़ता है |
  • इसके अलावा brain attack में निगलने में परेशानी , सर दर्द , बात समझने में दिक्कत ,मानसिक दुविधा आदि जैसे लक्षण है जो attack से पीड़ित व्यक्ति में देखे जा सकते है |

तो ये है brain attack hindi (brain stroke) और अधिक जानकारी के लिए आप हमे ईमेल कर सकते है साथ ही हमे regular health hindi updates पाने के लिए आप हमे फेसबुक पर follow कर सकते है या ईमेल सब्सक्रिप्शन ले सकते है |

Image Credit – demo pic

The post दिमागी दौरा क्यों पड़ता है जानिए विस्तार से appeared first on IndiHealth.

]]>
दिमाग की बनावट से जुडी कुछ जानकारियां http://www.indihealth.in/general-knowledge/brain-information-hindi/ Tue, 08 Aug 2017 17:42:02 +0000 http://www.indihealth.in/?p=665 Brain यानि के दिमाग हमारे शरीर का सबसे जटिल अंग है जिसके बारे में जितना समझ गया है उस से कंही अधिक वो है जो अभी तक अनसुलझा है | हालाँकि आज के युग में वैज्ञानिकों ने जटिल से जटिल बीमारी के इलाज खोज लिया है और शरीर के सभी अंगो के बारे में और ... [Read more...]

The post दिमाग की बनावट से जुडी कुछ जानकारियां appeared first on IndiHealth.

]]>
Brain यानि के दिमाग हमारे शरीर का सबसे जटिल अंग है जिसके बारे में जितना समझ गया है उस से कंही अधिक वो है जो अभी तक अनसुलझा है | हालाँकि आज के युग में वैज्ञानिकों ने जटिल से जटिल बीमारी के इलाज खोज लिया है और शरीर के सभी अंगो के बारे में और बॉडी फंक्शन के बारे में करीब करीब सब जानते है लेकिन brain के बारे में स्टडीज इतनी ज्यादा है कि जितना भी जाना जाये कम पड़ता है तो चलिए आज brain के बारे में थोड़ी बात करते है –

Brain information in hindi

Brain के बारे में सबसे पहली जो शानदार बात है वो है इसकी बनावट जो इसे कंही अधिक काम्प्लेक्स बनाती है और यह करीब 100 बिलियन तंत्रिकाओं से मिलकर बना होता है और यह तंत्रिकाएं एक दूसरे से सम्पर्क करने के लिए अरबों छोटे छोटे कनेक्शन का इस्तेमाल करती है जिन्हें मेडिकल भाषा में Synapses कहा जाता है | Synapses ही वो होते है जो एक से दूसरे  nerve cells तक सूचनाएं पहुंचाते है जो हमारे शरीर को चलाने के लिए क्रूशियल होती है |brain details in hindi

हमारे दिमाग की सरंचना की बात करें तो सबसे बाहर का जो आवरण होता है उसे cortex कहते है और हमारे सोचने की क्षमता के लिए ब्रेन के इसी भाग वाली कोशिकाएं जो होती है वो जिम्मेदार होती है | उसके बाद ब्रेन स्टेम होती है जो हमारी रीढ़ की हड्डी यानि spinal cord और दिमाग के बीच का हिस्सा होता है और यह हमारी अनैच्छिक क्रियायों में से एक साँस लेने को नियंत्रित करता है और साथ ही नींद से जुडी चीजे यंही से कण्ट्रोल होती है |  basal ganglia एक स्ट्रक्चर है जो दिमाग के बीचोबीच होती है जो कि brain के अलग अलग हिस्सों के बीच कम्युनिकेशन का काम करती है | सेरिबैलम brain के लिए आधार का काम करता है और साथ ही यह बैलेंस के लिए भी जिम्मेदार होता है |

इसके अलावा हमारा दिमाग अलग अलग हिस्सों में बंटा होता है जो अलग अलग क्रियाओं के लिए जिम्मेदार होते है उदाहरण के लिए –

  • frontal lobes यानि के सामने का भाग जो है वो problem solving abilities और निर्णय लेने के लिए जिम्मेदार होता है |
  • parietal lobes यानि पार्श्व हिस्सा यानि के अगर आप फ्रंट वाले हिस्से पीछे और की बढ़ें तो brain का यह हिस्सा हमारी महसूस करने , लिखने और शरीर की स्थिति को कण्ट्रोल करता है |
  • temporal lobes नाम का जो हिस्सा है वो हमारी याद रखने की क्षमता और सुनने की क्षमता को नियंत्रित करता है |
  • occipital lobes नाम का जो हिस्सा है हमारे brain का वो हमारे दिमाग के लिए कंप्यूटर के ग्राफ़िक कार्ड की तरह काम करता है यानि के वो हमारी visual power को कण्ट्रोल करता है |

हमारा दिमाग जो है वो एक खास तरह के उत्तक से हमेशा ढका हुआ होता है जिसे हम meninges कहते है और साथ ही हमारे दिमाग के आस पास एक ठोस ढांचा होता है जो हमे चोट वगेरह से बचाता है वो cranium कहलाता है |

तो ये है Brain information in hindi और इस बारे में अधिक जानकारी के लिए आप हमे ईमेल कर सकते है साथ ही हमारी वेबसाइट से hindi health updates regular पाने के लिए आप हमे फेसबुक पर follow कर सकते है या ईमेल सब्सक्रिप्शन भी ले सकते है

Image credit – IFLsc

 

The post दिमाग की बनावट से जुडी कुछ जानकारियां appeared first on IndiHealth.

]]>
गेजेट का अधिक इस्तेमाल दे सकते है आपको यह गंभीर बीमारी http://www.indihealth.in/eye-care/computer-vision-syndrome-hindi/ Fri, 08 Jul 2016 16:47:25 +0000 http://www.indihealth.in/?p=645 Computer vision syndrome एक तरह के आज की तकनीक से जुडी बीमारी है जो हमारी health को बुरी तरह से प्रभावित करती है और चूँकि यह हमारी आँखों से जुडी है इसलिए आपको और भी ध्यान रखने की आवश्यकता है क्योंकि अगर आप चीजो के बारे में जानते हुए भी परवाह नहीं करते है तो ... [Read more...]

The post गेजेट का अधिक इस्तेमाल दे सकते है आपको यह गंभीर बीमारी appeared first on IndiHealth.

]]>
Computer vision syndrome एक तरह के आज की तकनीक से जुडी बीमारी है जो हमारी health को बुरी तरह से प्रभावित करती है और चूँकि यह हमारी आँखों से जुडी है इसलिए आपको और भी ध्यान रखने की आवश्यकता है क्योंकि अगर आप चीजो के बारे में जानते हुए भी परवाह नहीं करते है तो यह आपके लिए खतरनाक हो सकता है तो चलिए जानते है कि आखिर यह computer vision syndrome है क्या और कैसे यह आपकी health को प्रभावित करता है आज की हमारी इस खास पोस्ट में –

computer vision syndrome in hindi

आजकल के समय में हम सब लोग कंप्यूटर , लैपटॉप या मोबाइल और दूसरे गैजेट्स के साथ बहुत समय बिताते है जिनका जाहिर सी बात है हमारे health पर तो कुछ न कुछ फर्क तो पड़ता ही होगा और यह भी सही है कि हम in सब से अछूते भी नहीं रह सकते अगर हमे जमाने के साथ चलना है और अगर जमाने के फलसफे जो छोड़ भी दें तो भी बहुत हद तक तकनीक हमारी जिन्दगी को आसान बनाती है तो इनके use से बचा भी नहीं जा सकता है | हम जो कर सकते है वो यह कि अगर हमे किसी भी गैजेट के उपयोग के बारे में जानकारी है और उनसे होने वाले साइड इफ़ेक्ट भी पता है तो हम उसके उपयोग का संतुलन बनाते उसके उसके side-effect जो है वो कम कर सकते है |

computer vision syndrome in hindi

computer vision syndrome in hindi

एक्सपर्ट्स ये मानते है कि लगातार इन गैजेट्स का उपयोग करने से लोग computer vision syndrome का शिकार हो जाते है और यह तो चलो एक शारीरिक बीमारी है जबकि अधिक तकनीक के इस्तेमाल से हमे मनोवैज्ञानिक तौर पर भी समस्याएं हो सकती है | computer vision syndrome यानि के CVS की वजह से होने वाली समस्याएँ जो है वो निम्न हा –

  • सामान्य headache होना ,
  • ब्लुर विज़न ,
  • ड्राई आईज ,
  • रेड आईज ,
  • आँखों में होने वाली जलन
  • कमर दर्द
  • गर्दन में दर्द रहना

इस तरह की समस्याओं से आपको दो चार होना पड़ सकता है अगर आप तकनीक का संतुलित इस्तेमाल नहीं करते है और यह होता इसलिए है क्योंकि अक्सर सोशल नेटवर्क पर समय बिताने वाले स्क्रीन की ब्राइटनेस कम नहीं करते है और रात को मोबाइल पर छोटी स्क्रीन पर मूवी देखने और ब्राइटनेस अधिक होने की वजह से आँखों पर बड़ा जोर पड़ता है | बार बार गेम खेलने वाले , दिन भर सोशल साइट्स पर समय बिताने वाले इस बीमारी के अधिक पीड़ित होने के आसार होते है |

ऐसे करें बचाव – आप इस से बचने के लिए पहले ही अगर कुछ चीजो के बारे में धयन रखते हुए संतुलन बनके रखते है तो आने वाली बहुत सी समस्याओं से बच सकते है तो जानिए वो कौनसी चीजे है जो आपको करनी चाहिए –

  • आपकी आंखे जो है किसी भी गैजेट को इस्तेमाल करते हुए स्क्रीन के लेवल के बराबर होनी चाहिए या उस से नीचे होनी चाहिए |
  • कंप्यूटर पर काम करने के दौरान सीधे बैठे और अपनी आँखों को बार बार ब्लिंक करें ताकि आपकी आँखों की नमी बनी रहे |
  • अगर आपकी कोई सिटींग जॉब है तो आप लगातार घंटो तक स्क्रीन पर काम नहीं करें और बीच बीच में ब्रेक लेते रहे |
  • काम से ब्रेक लेने के बाद आप आसमान को निहार सकते है और दूरी की चीजो को देखने की कोशिश करें |
  • आहा ! सबसे महत्वपूर्ण बात …सुबह जल्दी उठे ठन्डे पानी से अपनी आंखे धोये और फिर मोर्निंग वाक के लिए जाएँ |

तो ये है computer vision syndrome in hindi और अधिक जानकारी के लिए आप नीचे कमेन्ट कर सकते है साथ ही हमारी वेबसाइट से hindi health updates पाने के लिए आप हमे फेसबुक पर फॉलो कर सकते है या ईमेल सब्सक्रिप्शन ले सकते है |

Image Source – demo image

The post गेजेट का अधिक इस्तेमाल दे सकते है आपको यह गंभीर बीमारी appeared first on IndiHealth.

]]>
स्लिप डिस्क की समस्या हो सकती है गंभीर http://www.indihealth.in/bone-disease/slip-disk-problem-hindi/ Thu, 23 Jun 2016 15:03:47 +0000 http://www.indihealth.in/?p=640 Slip disk एक तरह से हमारी कमर से जुडी बीमारी होती है और चूँकि आज का जीवन और रहन सहन ऐसा है कि हम अपनी सेहत की और चाहकर भी सोच नहीं पाते है तकनीक की वजह से बैठे रहकर काम करने का चलन बढ़ गया है office jobs में घंटो बैठे रहकर काम करने ... [Read more...]

The post स्लिप डिस्क की समस्या हो सकती है गंभीर appeared first on IndiHealth.

]]>
Slip disk एक तरह से हमारी कमर से जुडी बीमारी होती है और चूँकि आज का जीवन और रहन सहन ऐसा है कि हम अपनी सेहत की और चाहकर भी सोच नहीं पाते है तकनीक की वजह से बैठे रहकर काम करने का चलन बढ़ गया है office jobs में घंटो बैठे रहकर काम करने वालों में इस तरह की दिक्कत अधिक होती है तो चलिए बात करते है slip disk problem क्या है कैसे आप इस से बच सकते है –

slip disk problem in hindi

slip disk problem in hindi

slip disk problem in hindi

हमारे body को सहारा देने वाली रीढ़ की हड्डी जो है वो कई तरह के उत्तको से मिलकर बनी होती है इसकी सरंचना में disk और मांसपेशियां होती है जो इसको सहारा देती है ऐसे में इन disks बीच की दूरी जो है वो कम हो जाती है जिसकी वजह से हमारी कमर में दर्द रहने लगता है इसकी वजह से होने वाली परेशानियाँ बहुत भयंकर होती है क्यंकि इसमें बहुत तेज दर्द होता है | क्योंकि हमारी रीढ़ की हड्डी हो है वो ही मुख्य रूप से हमारे शरीर को सहारा देती है इस वजह से हमारे पूरे शरीर में दर्द होने लगता है |

Reason of slip disk / कारण – इसके कुछ मुख्य कारण जिस पर ध्यान देते हुए आप अपनी समस्या को कम कर सकते है या उस से बच सकते है –

  • यह भी पाया गया है कि slip disk की समस्या तब हो सकती है जब आप regular stress से गुजर रहे हो क्योंकि stress भी आपके immune system पर बुरा प्रभाव डालती है |
  • आप अगर एक्सरसाइज करते है और बिना मार्गदर्शन के लगातार कोई भरी एक्सरसाइज करते है या गलत तरीके से करते है तो भी आपको इस समस्या से दो चार होना पड़ता है |
  • अगर आप ऐसी जॉब करते है जिसमे आपको लगातार बैठना पड़ता हो तो भी यह समस्या घर कर लेती है क्योंकि जब आप एक ही जगह सिटींग करते है तो उसकी वजह से आपकी रीढ़ की हड्डी को अधिक दबाव सहन करना पड़ता है जिसकी वजह से जोर पड़ने से भी रीढ़ की हड्डी में लगी disk में दूरी कम हो जाती है जिसके फलस्वरूप आपको कमर दर्द और slip disk problem हो सकती है |
  • चोट लग जाने की दशा में भी आपको slip disk problem हो सकती है ऐसे में आपको अगर छोटे के तुरंत बाद महसूस होता है कि आपको लगी हुई चोट की damage जो है वो आपकी रीढ़ की हड्डी को प्रभावित कर सकती है तो तुरंत हड्डियों के डॉक्टर यानि फिजियोथेरेपिस्‍ट से सम्पर्क करें और इस मामले में कोई कोताही नहीं बरते |

अगर आप समय पर इस समस्या से छुटकारा पा लेते है तो किसी भी तरह की समस्या से आसानी से बच सकते है और आपकी जिन्दगी और हेल्थ के बीच का संतुलन बना रहेगा | इसे ठीक करने के लिए आप योग , खास एक्सरसाइज और दवाईयों का इस्तेमाल कर सकते है और एक अच्छे डॉक्टर के मार्गदर्शन से इस समस्या से निजात पाई जा सकती है इसके ट्रीटमेंट के बारे में हम अगली पोस्ट में बात करेंगे | 

तो ये है slip disk problem in hindi और इस बारे में अधिक जानकारी के लिए आप नीचे कमेन्ट कर सकते है और साथ ही हमारी वेबसाइट से जुड़े रहने के लिए और अपडेट पाने के लिए आप फेसबुक पर हमे फॉलो कर सकते है और हमसे hindi health updates पाने के लिए आप हमसे फ्री ईमेल सब्सक्रिप्शन ले सकते है |

Image source – demo pic

The post स्लिप डिस्क की समस्या हो सकती है गंभीर appeared first on IndiHealth.

]]>
मोर्निंग वाक की अहमियत क्या है जानिए आप http://www.indihealth.in/lifestyle/morning-walk-importance-hindi/ Sat, 14 May 2016 15:12:54 +0000 http://www.indihealth.in/?p=631 Morning walk importance की बात करें तो हमने हमारी पिछली पोस्ट में इसके बारे में इस से मिलने वाले health benefits की बात की थी और ऐसे में अगर इसके महत्व की बात करें तो यह बहुत है और इसलिए चलिए जानते है कि इस से होने वाले कौनसे वो फायदे है जो इसे खास ... [Read more...]

The post मोर्निंग वाक की अहमियत क्या है जानिए आप appeared first on IndiHealth.

]]>
Morning walk importance की बात करें तो हमने हमारी पिछली पोस्ट में इसके बारे में इस से मिलने वाले health benefits की बात की थी और ऐसे में अगर इसके महत्व की बात करें तो यह बहुत है और इसलिए चलिए जानते है कि इस से होने वाले कौनसे वो फायदे है जो इसे खास बनाते है आज की इस पोस्ट में –

Morning walk importance in hindi

मोर्निंग वाक असल में आपके दिन के सही शुरुआत के लिए बहुत जरुरी है ठीक उसी तरह जैसे कि healthy breakfast और इस से मिलने वाले स्वास्थ्य लाभ के बारे में हम बात कर चुके है लेकिन अब थोडा detail में हम कुछ और जानकारी भी प्राप्त करते है जो इस तरह है –

  • Weight loss करने के लिए आप अगर कोई strategy बना रहे है तो उसमे आप इसे भी शामिल कर लीजिये और अगर आप खाना दबाके खाना पसंद करते है और व्यायाम वगेरह कम ही करते है तो भी यह आपके लिए वरदान का काम करती है morning walk से आपको अपना वजन कम करने में बहुत मदद मिलती है | क्योंकि इस से आपको अपनी केलोरीज जो अपने भोजन के माध्यम से ली है वो बर्न करने में मदद मिलती है |

Morning walk importance

  • यह आपकी productivity भी बढ़ा देती है क्योंकि अगर आप daily morning walk जाते है तो इस से आप अनुशासित हो जाते है energetic  हो जाते है क्योंकि सुबह की आबो हवा आपके लिए यह आसान कर देती है |
  • Immunity और immune system की बात करें तो आपके शरीर को छोटी मोटी बीमारियों से बचने के लिए रोगों से आपका इम्यून सिस्टम ही लड़ता है और मोर्निंग वाक जाने से आपका immune system बहर हो जाता है |
  • heart diseases के रिस्क को कम करने में भी इसका अहम् योगदान है क्योंकि शोध में ऐसा पाया गया है कि daily मोर्निंग वाक जाने वाले लोगो में cholesterol का प्रभावी लेवल तेजी से नियमित हो जाता है बज्य उनके जो नहीं जाते |
  • Hypertension यानि के Low blood pressure या high Blood pressure के अंदर भी यह अहम् भूमिका अदा करता है और आपके रक्तचाप को नियमित करने में मदद करता है | यह Morning walk importance बढ़ा देती है |
  • Brain power increase करने में भी सहयोग करता है क्योंकि सुबह सुबह आपको fresh air मिलती है जिसमे ओक्सिजन की मात्रा भरपूर होती है और ऐसे में आपके दिमाग के लिए यह बेहद फायदेमंद होती है |
  • इसके अलावा अच्छी नींद आना और आपके शरीर में blood circulation का नियमित हो जाना भी एक कारक है जो Morning walk importance के अंतर्गत आती है |

इसलिए जो भी सुबह सुबह समय निकाले और early morning उठने की आदत डालें और अपने दिन को भरपूर जिए |

तो ये है morning walk importance in hindi और अधिक जानकारी के लिए आप नीचे कमेन्ट करे और hindi health update पाने के लिए आप हमसे free email subscription ले सकते है और गूगल और फेसबुक के जरिये भी हमसे जुड़ सकते है |

Image source – demo pic

The post मोर्निंग वाक की अहमियत क्या है जानिए आप appeared first on IndiHealth.

]]>
मोर्निंग वाक के सेहत के फायदे है कमाल के http://www.indihealth.in/lifestyle/morning-walk-health-benefit-hindi/ Sat, 14 May 2016 13:16:47 +0000 http://www.indihealth.in/?p=627 Morning walk के बारे में में बात करें तो यह आपके दिन को शुरू करने का सबसे अच्छा तरीका है और आप भी जानते है अगर आपके दिन की शुरुआत अच्छी होती है तो आपका पूरा दिन बेहतरीन जाता है और ऊपर से health benefits अलग से आपको मिलते है | वैसे सुबह सुबह उठाना ... [Read more...]

The post मोर्निंग वाक के सेहत के फायदे है कमाल के appeared first on IndiHealth.

]]>
Morning walk के बारे में में बात करें तो यह आपके दिन को शुरू करने का सबसे अच्छा तरीका है और आप भी जानते है अगर आपके दिन की शुरुआत अच्छी होती है तो आपका पूरा दिन बेहतरीन जाता है और ऊपर से health benefits अलग से आपको मिलते है | वैसे सुबह सुबह उठाना महाभारत जैसा होता है लेकिन अगर आप कुछ दिन जाएँ सुबह सुबह morning walk के लिए तो आपको पता चलेगा दुनिया बड़ी हसीन होती है क्योंकि लेट उठने वालों के साथ यह समस्या होती है उन्हें पता भी नहीं चलता है कि दिन कब निकल जाता है तो चलिए आज से ही सुबह जल्दी उठने का प्रण लीजिये और मोर्निंग वाक जाना शुरू कीजिये | आज की इस पोस्ट में हम Morning walk health benefit के बारे में जानेंगे तो चलिए बात करते है –

Morning walk health benefit In hindi

मोर्निंग वाक से कुछ इस तरह आपको लाभ मिलते है –

  • यह आपके दिन शुरू करने का सबसे अच्छा तरीका है क्योंकि सुबह सुबह जब शांत वातावरण होता है आप अपने बारे में सोच सकते है अपनी जिन्दगी को आपको किस डायरेक्शन में लेकर जाना के बारे में सोच सकते है और सुबह सुबह का शांत वातावरण आपकी जिन्दगी में बहुत सी उर्जा लेकर आता है |
  • यह रिसर्च में देखा गया है कि सुबह जल्दी उठकर मोर्निंग वाक जाने वाले लोग उन लोगो की तुलना में अधिक आशावादी होते है जो morning walk नहीं जाते है क्योंकि सुबह सुबह जब आप जाते है तो ठंडी और fresh air और उगता हुआ सूरज आपके लिए प्रेरणा और आशा का स्त्रोत बनता है |
  • अगर आप कुछ ऐसा काम करते है जिसकी वजह से आपको gym जाने या workout करने की फुर्सत नहीं है तो आपके लिए यह वरदान हो सकता है क्योंकि आईटी कंपनीज में काम करने वाले और कुछ प्राइवेट जॉब करने वाले लोगो को दिन में समय ही नहीं मिलता है और काम का इतना pressure होता है कि वो अपनी जिन्दगी को जीना भूल चुके होते है | तनाव पूर्ण जिन्दगी हो जाती है उनकी ऐसे में अगर morning walk को आप अपनाते है तो न केवल stress से राहत मिलती है अपितु उन शांत क्षणों में अपनी जिन्दगी में बारे में बेहतर सोच आप सोच सकते है क्योंकि उस समय आपका दिमाग हर तरह से फ्रेश होता है | सुबह की हवा आपके mood के लिए बेहतरीन होती है | इसलिए बिजी रखने वाले लोगो के लिए morning walk फिजिकल exercise की तरह काम करती है और उन्हें इनके health benefits भी मिलते है |
  • Morning walk health benefit में सबसे महत्वपूर्ण जो बात है वो है यह आपके stress level को कम करती है क्योंकि जब आप सुबह सुबह उठते है और बाहर जाते है तो आप हरे पेड़ पौधे देखते है और साथ ही आपके आस पास का माहौल ऐसा होता है कि कोई ज्यादा शोर नहीं होता और सुबह सुबह कोई किसी से बात करने वाला नही होता | आपके पास कोई फ़ोन काल्स सुबह सुबह नहीं आते तो कोई disturbance भी नहीं होता ऐसे में आप अपनी life में चल रही परेशानियों पर गौर कर सकते है | अपनी जिन्दगी के goals सेट कर सकते है | जिस से आपका stress लेवल भी कम होता है क्योंकि बाकि समय में तो आप अपने बारे में सोच भी नहीं पाते है |
  • शोध में एक बार और भी देखने को सामने आई है कि जो लोग सुबह सुबह मोर्निंग वाक के लिए जाते है उन लोगो की मानसिक हालत जो है वो उन लोगो से बेहतर होती है जो लोग नहीं जाते साथ ही उन लोगो में जिन्दगी की समस्याओं से निपटने के लिए सकारात्मक नजरिया होता है |

Morning walk health benefit

  • अगर आप अपने किसी दोस्त के साथ जाते है तो यह और भी बढ़िया है क्योंकि आप सुबह सुबह अपनी समस्याएं भी उस से साझा कर सकते है जिस से आपकी समस्याओं के प्रति कुछ अलग नजरिया भी आपको सुनने को मिलेगा और साथ ही किसी पार्क में अगर आप जाते है तो वंहा मौजूद लोगो से आपकी जान पहचान तो हो ही जाती है ऐसे में आप थोड़े सोशल भी हो सकते है |
  • Morning walk health benefit में आपके पाचन तंत्र को होने वाला फायदा भी है  ऐसे में आपकी भूख भी बढती है और आपका पाचन तंत्र भी मजबूत होता है इसलिए भोजन से मिलने वाली आपको उर्जा जो  है वो maximize हो जाती है क्योंकि शरीर उसका पूरा उपभोग कर पाने में सक्षम होता है |
  • यह आपको अच्छी नींद लेने में भी मदद करता है क्योंकि morning walk अपने आप में एक अच्छी exercise है जिसकी वजह से आप कई तरह की बीमारियों से भी बच सकते है और साथ ही यह आपके वजन को कम करने में भी आपकी मदद करता है | आप अगर ज्यादा स्वास्थ्य लाभ लेना चाहे तो अपने चलने की स्पीड को बढा सकते है क्योंकि जितना तेज आप चलते है उतना ही अधिक आप केलोरी भी बर्न करते है |
  • जितना तेज आप चलते है उतनी अधिक केलोरिज आप बर्न करते है और यही नहीं इस से आपके cholesterol का लेवल भी कम होता है और कुछ गंभीर बीमारियाँ जैसे heart disease और sugar disease से बचने में मदद मिलती है |

तो ये है Morning walk health benefit In hindi और अधिक जानकारी के लिए आप नीचे कमेन्ट कर सकते है या हमसे गूगल या फेसबुक के जरिये जुड़ सकते है साथ ही हमसे hindi health update पाने के लिए आप हमसे free email subscription भी ले सकते है |

Image Source – demo pic

The post मोर्निंग वाक के सेहत के फायदे है कमाल के appeared first on IndiHealth.

]]>
ऐसे करें खुद को वर्कआउट के लिए तैयार http://www.indihealth.in/exercises/workout-start-tips-hindi/ Sat, 14 May 2016 12:23:29 +0000 http://www.indihealth.in/?p=623 Workout tips पर जब बात हो रही है तो अक्सर हमारे पास बहुत सारे बहाने होते है ये जताने के लिए कि नहीं मैं फ्री नहीं हूँ और मेरे पास बहुत से दूसरे काम है जिन्हें करना ज्यादा जरुरी है लेकिन अगर आप ये सोचते है तो यह आपके लिए सही नहीं है और ना ... [Read more...]

The post ऐसे करें खुद को वर्कआउट के लिए तैयार appeared first on IndiHealth.

]]>
Workout tips पर जब बात हो रही है तो अक्सर हमारे पास बहुत सारे बहाने होते है ये जताने के लिए कि नहीं मैं फ्री नहीं हूँ और मेरे पास बहुत से दूसरे काम है जिन्हें करना ज्यादा जरुरी है लेकिन अगर आप ये सोचते है तो यह आपके लिए सही नहीं है और ना ही आपकी health के लिए क्योंकि अच्छी health से अधिक जरुरी कुछ भी नहीं है आप ये माने या नहीं माने लेकिन सच यही है तो चलिए जानते है कैसे आप workout के लिए खुद को मना सकते है आज की इस पोस्ट “ workout Start tips “ में जिसमे आप कुछ चीजो का ध्यान रखते हुए खुद को तैयार कर सकते है –

workout Start tips in hindi

शुरू शुरू में थोडा मुश्किल होता है लेकिन जब आप ये करने लगते है तो तो उसके बाद सब आसान हो जाता है ऐसे में खुद को वर्कआउट के लिए तैयार करने के लिए कुछ जरुरी बातें है जिन्हें आप फॉलो कर सकते है तो चलिए जानते है वो कौनसी है –

साथी चुने/ Choose your partner – आप अगर नया नया कुछ करते है तो यह भी सम्भावना है कि थोड़े समय बाद आप उस से बोर हो जाएँ इसलिए अगर आप workout start करना चाहते है तो आप एक काम कर सकते है कि अपने किसी बेस्ट फ्रेंड को चुने और उसे अपने workout का साथी बनाएं | इसके पीछे लॉजिक ये है कि जब आप केवल अपने बारे में सोचते है तो आप थोडा आलस कर देते है लेकिन जब आपको पता है आपकी वजह से कोई और भी जल्दी उठ कर आपका साथ दे रहा है तो आपको थोड़ी फ़िक्र रहेगी यही इसके पीछे का मनोवैज्ञानिक कारण है |

workout Start tips in hindi

दोस्त से करें competition – अगर आप health के लिए workout शुरू करना चुनते है तो इसके लिए सबसे पहले तो आपको planning करनी होगी और उसके बाद आप अपने किसी दोस्त को चुने जो आपके साथ workout करने के लिए सहज हो आप दोनों ये decide करें कि daily जब भी वो exercise करेंगे तो कुछ राशी जो है एक बॉक्स में डालेंगे और जो भी आपकी planning को पहले और ठीक से  पूरा करेगा उसे यह राशी मिल जाएगी | अगर आप दोनों समय पर अपने लक्ष्य को पूरा करते है तो आप उस राशी को जिसे आप दोनों ने इक्कठा किया है half half करलें और नहीं तो जिसे यह इनाम की राशी मिलेगी वो विनर होगा और ऐसा ही आप आगे आने वाले हफ्तों के लिए करें |

सोशल मीडिया का करें इस्तेमाल / Use social media – health के मामले में अगर आप morning walk शुरू कर रहे है या सुबह सुबह उठकर जिम ज्वाइन कर workout start रहे है तो आप इसे फेसबुक या दूसरी सोशल साइट्स पर दोस्तों के साथ कर सकते है कि आप यह कर रहे है और अपने दोस्तों को भी अपने साथ invite कर सकते है ऐसे में फायदा यही है अगर किसी दिन अपने रूटीन तोड़ा तो आपको अपने दोस्तों के मजाक बनना पड़ेगा और यही डर आपके workout करने की आदत को continue करेगा |

सुबह उठने की आदत – सुबह जल्दी उठना सबसे बड़ी टेढ़ी खीर होती है और यही सबसे बड़ी महत्वपूर्ण बाधा है जो आपको होती है इसके लिए एक simple सा सुधारे करें अपनी जिन्दगी में कि जो उठने के लिए आप अलार्म लगाते है वो आपकी हाथ की पहुँच से दूर होना चाहिए | ताकि आप नींद में ही इसे बंद नहीं कर सके | अगर आप एक बार उठ जाते है तो आपके लिए मन बनाना आसान हो जायेगा और आप workout start कर सकते है | 

मोबाइल को रखें चार्ज – अगर आप workout के लिए जाते है या फिर अगर morning walk के लिए भी जाते है तो ऐसे समय में आप बोर नहीं हों इसके लिए अपने मोबाइल या म्यूजिक डिवाइस को चार्ज करकें रख लें ताकि आप workout के समय अपने मनपसंद music को सुनते हुए आप workout कर सकें |

Workout को नहीं लें हल्के में – जब हम नकारात्मक होते है तो यह सोचते है कौनसा सभी लोग workout करते है ऐसे में जरुरी भी क्या है जाना लेकिन नहीं आप सबसे पहले इसके health benefits पर गौर करें और सोचे कि लोग जो वर्कआउट करते है बाकि लोगो से उनकी productivity जो है वो अधिक होती है और साथ ही आपको बहुत से health benefits भी प्राप्त होते है जैसे मोटापे से मुक्ति , कंधो और पैरो की मजबूती और cholesterol का कम लेवल आदि | इसलिए workout start करें और health benefits पायें |

शुरू करना ही आधी जंग जीतने जैसा – अगर अपने workout start कर दिया है तो यह ही आधी जंग जीतने जैसा है क्योंकि एक बार शुरू करने पर आपको इसकी आदत हो जाती है और अगर अपने dedication के साथ इसे शुरू किया है तो एक समय के बाद यह routine आपकी जिन्दगी का अहम् हिस्सा बन जाता है और इसके बिना आप रह ही नहीं पाएंगे | अगर किसी वजह से आप जिम नहीं जा पाते है तो घर पर भी कुछ आसान सी एक्सरसाइजेज कर सकते है |

रात में ही कर लें तैयारी – सोते समय अगले दिन के लिए planning करके चलें और साथ ही निम्न बातों का ध्यान रखें –

  • सुबह बाहर जाते समय पहले जाने वाले कपड़ों के बारे में रात को ही decide करलें और उन्हें अलमारी से बाहर निकल कर रखें ताकि सुबह उठने के बाद मगजमारी नहीं करनी पड़े|
  • Healthy breakfast से दिन की शुरुआत करें ताकि आपका पूरा दिन बेहतर जाये और इसके लिए रात को ही तैयारी करके सोयें जैसे आप बादाम और केला ब्लेण्डर में मिक्स करके अपने स्वादानुसार कुछ चीजे मिलकर फ्रिज में रख दें और सुबह इसे इस्तेमाल करें workout के लिए बाहर जाने से पहले |

तो ये है workout Start tips in hindi और अधिक जानकारी के लिए आप नीचे कमेन्ट कर सकते है या हमसे hindi health updates पाने के लिए आप हमसे free email subscription ले सकते है अथवा हमे गूगल या फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते है |

Image source – demo pic

The post ऐसे करें खुद को वर्कआउट के लिए तैयार appeared first on IndiHealth.

]]>